October 2: Gandhi Jayanti

https://www.facebook.com/IIWBR/posts/2751768885041014

आज गांधी जयंती के दिन भारतीय गेहूँ एवं जौ अनुसंधान संस्थान, करनाल में 25 सितम्बर से 2 अक्टूबर तक सप्ताह भर चले गांधी जयंती उत्सव कार्यक्रम का समापन समारोह मनाया गया। इस सप्ताह भर की अवधि में अनेक कार्यक्रम आयोजित किए गये जिनमें स्वच्छ्ता के महत्व थीम पर पेंटिग, स्वच्छता अभियान, योग दिवस, भाषण प्रतियोगिता, गांधी जी पर कविता प्रस्तुति, वृक्षारोपण, स्वच्छ्ता के महत्व पर नारा लेखन आदि प्रतियोगिताए आयोजित की गई थी। गांधी जयंती कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थान के निदेशक डॉ ज्ञानेन्द्र प्रताप सिंह ने की, कार्यक्रम के मुख्य अतिथि काशी हिंदू विश्विद्यालय से सम्बद्ध डॉ अनूप कुमार मिश्र थे। कार्यक्रम के दौरान डॉ अनुज कुमार प्रधान वैज्ञानिक ने सभी का स्वागत किया एवं स्वच्छता शपथ दिलाई। गांधी जयंती उत्सव कार्यक्रम की अगुवाई करने वाले डॉ रतन तिवारी, प्रधान वैज्ञानिक ने इस गांधी जयंती उत्सव कार्यक्रम की विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत की। वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी श्री सचिन अग्निहोत्री ने सप्ताह के दौरान आयोजित प्रतियोगिताओं के विजेताओं की घोषणा की। अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में संस्थान के निदेशक डॉ ज्ञानेन्द्र प्रताप सिंह ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी एवं पूर्व प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी के विशाल व्यक्तित्व को उनके जन्म दिवस पर स्मरण किया एवं श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होने कहा कि इन महान विभूतियों के जीवन से प्रेरणा लेकर हम जीवन को बेहतर तरीके से जी सकते है साथ ही देश की प्रगति में भी योगदान कर सकते हैं। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ अनूप कुमार मिश्र ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के जीवन दर्शन पर विस्तार से प्रकाश डाला। उनके गांधी से महात्मा हो जाने की यात्रा में उनके द्वारा किए गए सत्य, अहिंसा एवं ग्राम स्वराज के प्रयोगों के बारे में उल्लेख किया। गांधी जी का ग्राम स्वराज कैसा था, कृषि शिक्षा पर उनके क्या विचार थे, यह मुख्य अतिथि के उद्बोधन में बताया गया। कार्यक्रम में संस्थान के प्रधान अन्वेषकों, वैज्ञानिकों, तकनीकी, प्रशासनिक व अन्य कर्मचारियों ने भाग लिया। अधिकांश व्यक्तियों ने ऑनलाइन माध्यम से कार्यक्रम में सहभागिता की। इस कार्यक्रम की समाप्ति धन्यवाद ज्ञापन के साथ हुई।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »